आर्यभट्ट का जीवन परिचय और गणित में योगदान

आर्यभट्ट प्राचीन भारतीय खगोलविद् और गणितज्ञ थे, जिनका जन्म 476 ईस्वी में हुआ था। उन्होंने गणित और खगोल विज्ञान के क्षेत्रों में महत्वपूर्ण योगदान दिया। उनका प्रमुख ग्रंथ आर्यभटीय है, जिसमें गणित, खगोल विज्ञान और ज्योतिष से संबंधित ज्ञान समाहित है। आर…

सौर ऊर्जा का महत्त्व और रोज़गार की संभावना

विज्ञान संवाद  विशेष रिपोर्ट  सौर ऊर्जा एक प्राकृतिक ऊर्जा स्रोत है जो हमें सूर्य से प्राप्त होती है। सूर्य की किरणों से प्राप्त होने वाली ऊर्जा को सौर ऊर्जा कहा जाता है। यह ऊर्जा बिजली ऊर्जा तथा उष्मा ऊर्जा के रूप में उपयोग मिलती है।  सौर ऊर्जा को प्…

कैनवास पर जीवन के रंग

अमृतांज इंदीवर मुजफ्फरपुर, बिहार बात जब बिहार में चित्रकला की आती है, तो मिथिला चित्रकला शैली के भित्ति चित्र व अरिपन का नाम जरूर आता है. मिथिला या मधुबनी चित्रकला एशिया के विभिन्न देशों में अपनी कलात्मकता और विशिष्ट शैली के लिए विख्यात है. यह चित्र…

आधुनिक विज्ञान: भविष्य की ओर बढ़ते कदम

आधुनिक विज्ञान आज के समय में सबसे तेजी से बढ़ रहा है और इसका उपयोग विभिन्न क्षेत्रों में हो रहा है। विज्ञान ने मानव जीवन को सुखद और आसान बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। नए तकनीकों और अनुसंधानों के आधार पर…

पदबंध की परिभाषा, भेद व उदहारण सम्पूर्ण ज्ञान

Padbandh kya hai ? kise kahete hai? पदबंध व्याकरण का एक महत्वपूर्ण अंग है जो शब्दों की संरचना को समझने में मदद करता है। पदबंध का अर्थ होता है शब्दों को उनके वाक्य में सही ढंग से व्यवस्थित करना। यह शब्दों के अर्थ को स्पष्ट और सुसंगत बनाने में मदद करता …

खगोल विज्ञान का जनक गैलीलियो

Galileo Galilei  गैलीलियो  (1564-1642) एक इटली के भौतिक विज्ञानी, गणितज्ञ, खगोलविद और दार्शनिक थे। जिन्होंने वैज्ञानिक क्रांति में एक प्रमुख भूमिका निभाई थी। उन्हें अक्सर "आधुनिक अवलोकन संबंधी खगोल विज्ञान का जनक" कहा जाता है, क्योंकि उन्हो…

ज़्यादा पोस्ट लोड करें
कोई परिणाम नहीं मिला